जागरूकता से ही टी. वी. को हराया जा सकता है

Uncategorizedजागरूकता से ही टी. वी. को हराया जा सकता है
spot_img
spot_img

पाकुड़ । प्रधानमंत्री टी. वी. मुक्त अभियान के तहत 24 फ़रवरी से 24 मार्च तक जागरूकता अभियान का आयोजन होना है। जिसके तहत पॉलिटेक्निक कॉलेज पाकुड़ मे जिला यक्ष्मा विभाग पाकुड़ एवं पिरामल स्वास्थ के संयुक्त प्रयास से विद्यालय के बच्चों एवं शिक्षको के बिच टी. वी. बीमारी को लेकर जागरूकता अभियान चलाया गया।

इस दोरान जिला यक्ष्मा पदाधिकारी पाकुड़ डॉ अहतेशामुद्दीन ने टी. वी. विमारी के लक्ष्ण, जाँच एवं उपचार की जनकारी दी।

उन्होंने बताया की टी. वी. बीमारी माइक्रोबेकटेरियम ट्यूबर क्लोसिस बेक्टेरिया से होता है। जो मुख्यतः फेफड़े को संक्रमित करती है। यह मानव शरीर के अन्य हिस्सों पर भी हो सकती है। टी. वी. विमारी को आपसी सहभागिता से ही समाज से समाप्त की जा सकती है। साथ ही सभी सामु. स्वा. केंद्र के साथ साथ सदर अस्पताल मे टी. वी. के इलाज हेतू सभी सुविधाये उपलब्ध है। सरकार द्वारा सभी टी. वी. मरीजों को 500 रूपये 6 माह तक पोस्टिक आहार के सेवन हेतु दी जाती है।

उन्होंने बताया की दो सप्ताह से या उससे अधिक दिनों से खाँसी आने, वजन कम होने, बुखार आना, रात मे सोने समय अत्यधिक पसीना आना, अत्यधिक थकान होने पर नजदीकी स्वास्थ केंद्र जाकर बलगम की जाँच जरूर कराना जरुरी है। महाविद्यालय स्तरीय प्रतियोगिता का आयोजन हुआ जिसमे ऑनलाइन क्विज प्रतियोगिता का आयोजन हुआ।

ऑनलाइन निबंध प्रतियोगिता एवं चित्रकला प्रतियोगिता हेतू ऑनलाइन लिंक दिया गया। जिसमे सभी विद्यार्थी को शामिल होना है।

इस जागरूकता कार्यक्रम मे जिला यक्ष्मा केंद्र पाकुड़ के सभी अधिकारी और पिरामल स्वास्थ के अधिकारी मौजूद थे।

Check out our other content

Meet Our Team

Dharmendra Singh

Editor in Chief

Gunjan Saha

Desk Head

Most Popular Articles