Tuesday, March 5, 2024
HomePakurगुरु गोविंद सिंह के साहिबजादों की वीरता 'वीर बाल दिवस' के रूप...

गुरु गोविंद सिंह के साहिबजादों की वीरता ‘वीर बाल दिवस’ के रूप में याद की गयी

देश प्रहरी की खबरें अब Google news पर

क्लिक करें
bachchan5

पाकुड़। दसवें सिख गुरु गोविंद सिंह के पुत्र साहिबजादे बाबा जोरावर सिंह और बाबा फतेह सिंह की शहादत की स्मृति में राष्ट्रीय वीर बाल दिवस का आयोजन भाजपा नगर अध्यक्ष पंकज कुमार साह की अध्यक्षता में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी मार्केट कांप्लेक्स, पाकुड़ में आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से भाजपा जिलाध्यक्ष अमृत पाण्डेय, उपाध्यक्ष हिसाबी राय, गुरुद्वारा के भाई साहब सरदार प्रेम सिंह, सरदार रंजु सिंह, सरदार ईवरण सिंह गुजराल मौजूद थे।

भाजपा जिलाध्यक्ष अमृत पाण्डेय ने राष्ट्रीय वीर बाल दिवस के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि गुरु गोविंद सिंह जी के चार बेटों (साहिबजादे) और माता गुजरी जी के त्याग बलिदान और आस्था को याद किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मुगल बादशाह औरंगजेब और उनके लोग के द्वारा तलवार के बल पर गुरु गोविंद सिंह के बच्चों का धर्म बदलना चाहते थे लेकिन उन्होंने अपने दो मासूम बच्चों के बलिदान का फैसला लिया और क्रोधित होकर औरंगजेब ने साहिबजादों को दीवार में जिन्दा चिनवा दिया।

गुरूद्वारे के भाईसाहब सरदार प्रेम सिंह ने कहा कि औरंगजेब के आतंक के खिलाफ गुरु गोविंद सिंह जी पहाड़ की तरह खड़े रहे। आस्था की रक्षा के लिए प्राणों न्योछावर करने वाले गुरु गोविंद सिंह के पुत्र जोरावर सिंह जी और फतेह सिंह जी को शत-शत नमन, गुरु गोविंद सिंह के शहीद बच्चों का जिक्र करते हुए कहा कि एक तरफ आतंकवाद था और दूसरी तरफ अध्यात्मवाद एक तरफ संप्रदाय हिंसा थी तो दूसरी तरफ आस्था। पड़तारना के बाद भी साहिबजादे बिल्कुल भी नहीं हिले और अपनी प्राणों की आहुति दे दी।

कार्यक्रम में विश्वनाथ प्रसाद भगत, सोहन मंडल, धर्मेंद्र त्रिवेदी, सुशील साहा, रतन भगत, अनिकेत गोस्वामी, सादेकुल आलम, बप्पा दे, सुमन चौधरी, अंकित मंडल आदि मौजूद थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments